हाथों और पैरों में झनझनाहट
के कारण

Image Credit: google

Image Credit: google

हाथों और पैरों में झनझनाहट को कई बीमारियों के शुरुआती लक्षणों के तौर पर देखा जाता है। आइए जानते है हाथों और पैरों में सेंसेशन होने के पीछे की वजहों के बारे में।

नसों पर दबाव पड़ने के कारण

Image Credit: google

काफी देर तक एक ही जगह पर या एक ही पोजीशन में बैठे रहने के कारण नसों पर दबाव पड़ता है और ब्लड सर्कुलेशन रुक जाता है। इससे नसें सुन्न हो जाती हैं, जो हाथ और पैरों में झनझनाहट का कारण बनती है।

डायबिटीज की समस्या में

Image Credit: google

डायबिटीज की समस्या में झनझनाहट तलवों से शुरू होकर पूरे शरीर में फैलती है। त्वचा में जलन की समस्या का होना, हाथ-पैरों में झनझनाहट होना और शरीर का सुन्न पड़ना आदि समस्याओं को डायबिटीज के शुरुआती लक्षणों में गिना जाता है।

विटामिन B12 की कमी

Image Credit: google


विटामिन B12 की कमी से शरीर में ब्लड फ्लो खराब हो जाता है, जिस कारण हाथों-पैरों में झनझनाहट की समस्या होने लगती है। यह परेशानी अक्सर 60 साल से अधिक आयु के लोगों में पाई जाती है।

प्रेग्नेंसी में

Image Credit: google

प्रेग्नेंसी के समय गर्भाशय का आकार बढ़ने की वजह से पैरों पर दबाव पड़ता है, जिससे पैरों में झनझनाहट की समस्या होती है। प्रेग्नेंसी के बाद यह समस्या अपने आप ठीक हो जाती है। प्रेग्नेंसी के बाद भी अगर यह समस्या नहीं जा रही, तो अपने डॉक्टर से सलाह लें।

किडनी की समस्या होने पर

Image Credit: google

किडनी में परेशानी होने पर नसों पर बुरा प्रभाव पड़ता है। किडनी में होने वाली परेशानी से उसमें लिक्विड टॉक्सिन्स जमा होने लगते हैं, जो नसों को डैमेज करते है, जिसकी वजह से हाथों पैरों में झनझनाहट होने लगती है।

अल्कोहल के कारण

Image Credit: google

लंबे समय से शराब का सेवन कर रहे लोगों में भी यह समस्या पाई जाती है। बॉडी में अधिक मात्रा में अल्कोहल होने के कारण नसें सही से कार्य नहीं कर पातीं और शरीर में सेंसेशन, हाथ-पैरों में कमजोरी ओर चलते समय अस्थिरता जैसी परेशानियां होने लगती है।

Image Credit: google

इसलिए हाथों-पैरों में झनझनाहट की समस्या होने पर इसे नजरअंदाज न करें और डॉक्टर को दिखाएं। सेहत से जुड़ी और तमाम जानकारियों के लिए पढ़ते रहें